छत्तीसगढ़ में गठबंधन सरकार बनते ही माओवादी समस्या खत्म हो जाएगी : मायावती

अंबिकापुर डेस्क/ बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती ने कहा कि गठबंधन के ज्यादा से ज्यादा प्रत्याशियों को मत देकर जिताएं ताकि छत्तीसगढ़ में भी सर्व समाज विशेष कर दलित, गरीब व अल्पसंख्यकों का पूर्ण विकास हो सके। छत्तीसगढ़ में भी गुरु घासीदास व काशीनाथ के अनुयायी स्वाभिमान के साथ अपना जीवन-यापन कर सकें। छत्तीसगढ़ में गठबंधन की सरकार बनते ही माओवादी समस्या भी समाप्त हो जाएगी।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) व जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ गठबंधन की चुनावी सभा को रविवार को कलाकेंद्र मैदान में संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि जो सरकार की वजह से या किसी न किसी कारण से माओवादी बन गए हैं वे भी मुख्य धारा से जुड़ जाएंगे। देश को आजाद व संविधान लागू हुए वर्षो हो चुके हैं, इस दौरान विभिन्न पार्टियों की सरकार ने शासन किया है लेकिन इसके बावजूद गरीब व दलितों का विकास नहीं हो सका है। अब इन्हें और आजमाने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ अलग राज्य बना तो सभी ने सोचा था कि यहां का विकास होगा। जनता कांग्रेस व भाजपा सरकार के कार्यकाल को देख चुकी है। दोनों ही सरकारें हमेशा चुनाव के पूर्व लोक-लुभावन वादे करती हैं, लेकिन उसे अमल में नहीं लाती हैं। घोषणा पत्र से अब देश के लोगों का विश्वास उठ चुका हैं।

मायावती ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी चुनाव से पूर्व कभी भी घोषणा पत्र नहीं लाती है क्योंकि हमारी पार्टी घोषणा पर नहीं काम करने पर विश्वास करती है। उत्तरप्रदेश इसका उदाहरण है, जहां चार बार बहुजन समाज की सरकार बनी, लेकिन एक बार भी चुनाव से पूर्व घोषणा पत्र नहीं लाया गया। जब हमारी सरकार पावर में आई तो हमने काम करके दिखाया। उत्तरप्रदेश में बसपा ने युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देने में विश्वास नहीं रखा, बल्कि युवाओं को विभिन्न विभागों में स्थायी नौकरी दी।

सभा को बसपा सुप्रीमो मायावती के अलावा जकांछ नेता अमित जोगी ने संबोधित किया। इस दौरान मायावती ने जहां केंद्र व राज्य सरकार पर निशाना साधा तो अमित जोगी ने नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव पर जमकर हमला बोला। जकांछ के नेता अमित जोगी ने कहा यहां उपस्थित भीड़ नहीं, बल्कि एक क्रांति का आगाज है। जल, जंगल और जमीन की क्रांति है। सरगुजा में जनता को ऐसे ठेकेदार जो महल के गुलाम हों, उसकी जरूरत नहीं है। सरगुजा देश का सबसे अमीर जिला है। लेकिन यहां के लोग सबसे गरीब हैं।

उन्होंने कहा कि इसी सोच के खिलाफ हमारी लड़ाई है। नेता प्रतिपक्ष का विधानसभा क्षेत्र है, लेकिन यहां सबसे अधिक किसान आत्महत्या कर चुके हैं। यहां मेडिकल कॉलेज बना, लेकिन एक वार्ड में 450 बच्चे की अब तक मौत हो चुकी है। सरगुजा में एक महल व हजारों झोपड़ी की सोच के खिलाफ हमारी लड़ाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *